aashian kya hai

Aashiyan kya hai। इसके प्रमुख उद्देश्य,आर्थिक गतिविधि एवं संस्थापक देश कौन से है

Aashiyan kya hai.

आसियान दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्रों की संस्था (ASEAN – Associiation of South -East Asian Nations) वियतनामी संकट, कंबोडिया संकट ,व इस क्षेत्र के देशों के पारस्परिक प्रयत्नों से विकास करने की आवश्यकता ने मिलकर दक्षिण पूर्वी राष्ट्रों को एक क्षेत्रीय संगठन बनाने के लिए प्रेरित किया। अगस्त 1967 में इंडोनेशिया, फिलीपींस, मलेशिया ,थाईलैंड तथा सिंगापुर में इसकी स्थापना की। 1984 में ब्रूनेई भी इसका सदस्य बन गया 1995 में वियतनाम तथा 1997 में लाओस तथा म्यांमार भी इस संगठन के सदस्य बन गए आगे चलकर कंबोडिया भी इसका सदस्य बन गया (aashiyan-kya-hai)

आसियान दक्षिण पूर्वी राष्ट्रों द्वारा एक सैनिक आर्थिक व सांस्कृतिक समुदाय के गठन के समय इसके निम्नलिखित उद्देश्य स्थापित किए गए

सदस्य देशों में आर्थिक सामाजिक सांस्कृतिक वैज्ञानिक तथा प्रशासनिक सहयोग को बढ़ाया जाए

क्षेत्र में आर्थिक सामाजिक तथा सांस्कृतिक विकास की गति में तेजी लाई जाए

क्षेत्रीय शांति तथा सुरक्षा स्थापित करना कि व्यापार तथा उद्योग के विकास में बढ़ावा देना सहयोग करना

कृषि व्यापार तथा उद्योग के विकास में सहयोग

आसियान विजन 2020 की मुख्य बातें क्या है

आसियान विजन 2020 में अंतरराष्ट्रीय समुदाय में आसियान की एक बहुत मुखी भूमिका को प्रमुखता दी गई है

हनोई कार्य योजना के अंतर्गत क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण व्यापारिक उदारीकरण तथा वित्तीय सहयोग की वृद्धि के लिए विभिन्न उपाय निर्धारित किए गए हैं

आसियान विजन 2020 के तहत एक आसियान सुरक्षा समुदाय समुदाय तथा सामाजिक एवं सांस्कृतिक समुदाय की संकल्पना की गई है

यह भी पढ़े :- क्यूबा मिसाइल संकट क्या है इससे परमाणु युद्ध कि संभावना कैसे टली।

आसियान के झंडे की व्याख्या

आसियान के झंडे की व्याख्या आसियान के झंडे में धान की 10 बालियों को दर्शाया गया है यह 10 बार दक्षिण पूर्व एशिया के 10 देशों को दर्शाती हैं जो आपस में परस्पर मित्रता एकता एवं भाईचारे का व्यवहार करते हैं झंडे में दिया गया बोला आसियान की एकता का प्रतीक है

आसियान के 10 महत्वपूर्ण देश (aashiyan-kya-hai)

१.मलेशिया

२.सिंगापुर

३.इंडोनेशिया

४.थाईलैंड

५..फिलीपींस

६.लाओस

७.कंबोडिया

८.वियतनाम

९.दारुस्सलाम

१०.आसियान

आसियान सम्मलेन क्या है (aashiyan-kya-hai)

आसियान की सर्वोच्च प्रमुख संस्था शिखर सम्मेलन है इसमें सदस्य राष्ट्रों के राजाअध्यक्ष एवं शासन अध्यक्ष भाग लेते हैं इसकी दूसरी संस्था मंत्री सम्मेलन है इसमें सदस्य राज्यों के विदेश मंत्री भाग लेते हैं और वह तुम्हें एक बार बैठक होना अनिवार्य है इसका स्थाई सचिवालय इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में इसके प्रशासकीय कार्य महासचिव द्वारा संपन्न किए जाते हैं

यह भी पढ़े :- प्रथम खाड़ी युद्ध (ऑपरेशन डेज़र्ट स्टॉर्म ) कब और क्यों हुआ (first gulf war )-इराक़ी वॉर

आसियान की आर्थिक गतिविधियां (aashiyan-kya-hai)

आसियान दक्षिण पूर्वी देशों का एक महत्वपूर्ण आर्थिक संगठन है 2003 में आसियान का संयुक्त सकल घरेलू उत्पाद जीडीपी 700 बिलियन डॉलर की जो कि प्रति वर्ष औसतन 4% की दर से बढ़ रहा है आसियान में विश्व जनसंख्या का 8% भाग शामिल है आसियान देशों में अपने क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए 1998 में हनोई सम्मेलन में दक्षिण पूर्वी एशिया में स्वतंत्र व्यापार आष्टा को समय से पहले ही लागू करने की लागू करने पर सहमति जताई इसके अंतर्गत 2020 के अंतर्गत क्षेत्रीय आर्थिक उदारीकरण वित्तीय सहयोग तथा व्यापारिक उदारीकरण के विभिन्न उपायों पर जोर दिया गया

आसियान विज़न की व्याख्या इस प्रकार है

आसियान विजन 2020 में अंतरराष्ट्रीय समुदाय में आसियान की एक प्रमुख बहुमुखी भूमिका को प्रमुखता दी गई है हनोई कार योजना के तहत क्षेत्रीय आर्थिक एकीकरण व्यापारिक उधारी करें तथा वित्तीय सहयोग की वृद्धि के लिए उपाय निर्धारित किए गए हैं इसके तहत एक आर्थिक सामाजिक एवं सांस्कृतिक समुदाय बनाने की संकल्पना की बातचीत को बढ़ावा देने की बात की गई है

क्षेत्र में कुछ महत्वपूर्ण सफलताएं प्राप्त की है परंतु फिर भी समय-समय पर इसे कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ा है आतंकवाद से जूझ रहे इंडोनेशिया में धार्मिक कट्टरता को बढ़ावा मिला है तथा पैदा होने वाले निरंतर चुनौती दे रहे हैं

यह भी पढ़े :-  139 Short Inspirational Quotes That will Motivate You Surely

aashiyan-kya-hai – यह पोस्ट काफी मददगार साबित होगी। कमेंट द्वारा अपनी राय अवश्य बताएं ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए the hulchal पर बने रहे

दोस्तों के साथ भी शेयर करे (क्योंकि ज्ञान को जितना प्रसारित करे उतना ही बढ़ता है )

धन्यवाद 🙂

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *