क्यूबा मिसाइल संकट क्या है इससे परमाणु युद्ध कि संभावना कैसे टली।

क्यूबा मिसाइल संकट(cuba missile crisis)

क्यूबा मिसाइल संकट एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटना है। क्यूबा अमेरिका के तट से लगा एक छोटा सा द्वीपीय देश है क्यूबा साम्यवादी विचारधारा से प्रभावित देश है 1960 के दशक में जब शीत युद्ध पूरे जोरों का था तब सोवियत संघ को इस बात की आशंका थी कि अमेरिका क्यूबा पर आक्रमण करके उसे अपने साथ मिला लेगा यदि सोवियत संघ क्यूबा को हर तरह की मदद करना चाहता था परंतु फिर भी वह इससे संतुष्ट नहीं था

कैसे पैदा हुई क्यूबा मिसाइल संकट की घटना (how cuba missile crisis Arise)

अतः 1962 में सोवियत के नेता khurushchev ने क्यूबा में सैनिक अड्डा स्थापित करके वहां पर परमाणु मिसाइल स्थापित कर दिए। इन मिसाइल के कारण पहली बार किसी देश के परमाणु हमले के निशाने पर आ गया इससे अमेरिका में हलचल मच गई अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन केनेडी नए अमेरिकी लड़ाकू बेड़ो के द्वारा सोवियत लड़ाकू पेड़ों को रोकने का आदेश दिया इससे दोनों देशों के बीच युद्ध की संभावना पैदा हो गई इसे ही क्यूबा मिसाइल संकट कहा जाता है

यह भी पढ़े:- What is communism|Definition, theories and Russian revolution|Karl marx vs Lenin

क्यूबा मिसाइल संकट का अंत (End of cuba missile crisis)

युद्ध में अतिरिक्त विनाश को देखते हुए दोनों देशों ने युद्ध ना करने की बात पर सहमति जताई तथा सोवियत संघ ने भी अपने जहाजों की गति धीमी कर ली या तो उन्हें वापस ही बुला दिया इस तरह यह संभावित युद्ध (क्यूबा मिसाइल संकट )समाप्ति की ओर अग्रसर हो गया। और एक बड़ा युद्ध होते होते टल गया

यह भी पढ़े :- ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच क्या है। अमेरिका का अलकायदा पर हमला

कमेंट द्वारा अपनी राय अवश्य बताएं ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए the hulchal पर बने रहे

दोस्तों के साथ भी शेयर करे (क्योंकि ज्ञान को जितना प्रसारित करे उतना ही बढ़ता है )

धन्यवाद 🙂

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *