ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच क्या है। अमेरिका का अलकायदा पर हमला

ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच (operation infinite reach)

ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच क्लिंटन के दौर में दूसरी बड़ी सैन्य कार्यवाही नैरोबी (केन्या) और दारे सलाम (तंजानिया) के अमेरिकी दूतावास के ऊपर बमबारी के जवाब में 1998 में हुई। इस्लामी विचारों से प्रभावित आतंकवादी संगठन अलकायदा को इस बमबारी का जिम्मेदार ठहराया गया इस बमबारी के कुछ दिन के अंदर राष्ट्रपति क्लिंटन ने ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच करने का आदेश पारित किया

ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच (operation infinite reach) के द्वारा हमला

इस युद्ध की अनुमति UNO(UNITED NATION ORGANISATION ) ने नहीं दी थी फिर भी अमेरिका ने आतंक के ख़िलाफ़ अलकायदा पर हमला किया।ने नहीं दी थी इस अभियान के अंतर्गत अमेरिका ने सूडान और अफगानिस्तान के अलकायदा के ठिकानों पर मिसाइलों से हमला किया

READ ALSO:- प्रथम खाड़ी युद्ध (ऑपरेशन डेज़र्ट स्टॉर्म ) कब और क्यों हुआ (first gulf war )-इराक़ी वॉर

ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच (operation infinite reach)

जब युद्ध होता है तो कुछ अंतरराष्ट्रीय कानून लागू होते हैं। जैसे कि आम नागरिक को कोई नुकसान न हो तथा आसपास के लोगो पर इसका कोई प्रभाव ना पड़ने पाए। यदि कोई देश हमला करता है तो वह सिर्फ उस क्षेत्र के सैनिक ठिकानों पर करता है। लेकिंन अमेरिका द्वारा (operation infinite reach )में उसका पालन नहीं किया और आम लोगो पर भी हमला किया जहा नागरिक रहते थे

कमेंट द्वारा अपनी राय अवश्य बताएं ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए the hulchal पर बने रहे

दोस्तों के साथ भी शेयर करे (क्योंकि ज्ञान को जितना प्रसारित करे उतना ही बढ़ता है )

धन्यवाद 🙂

READ ALSO:- Political Parties in India : Definition |Name and Symbol

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *