saarc-kya-hai

Saarc kya hai और Saarc countries list तथा सार्क सम्मलेन एवं महासचिव

Saarc kya hai – सार्क दक्षिण एशिया के 8 देशों का एक सहयोग संगठन है इस संगठन की स्थापना 1985 में ढाका में की गई थी

दक्षेस का अर्थ (Saarc Meaning In hindi)

SAARC FULLFORM IN HINDI -सार्क का हिंदी में पूरा नाम।

SAARC – South Asian Association for Regional Cooperation (दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन )

सार्क संगठन के सदस्य देश

  • भारत
  • पाकिस्तान
  • बांग्लादेश
  • भूटान
  • मालदेव
  • नेपाल
  • श्रीलंका
  • अफगानिस्तान

सार्क के प्रमुख उद्देश्य (Moto Of saarc)-saarc kya hai

दक्षिण एशियाई देशों के लोगों का कल्याण एवं जीवन में गुणवत्ता गुणवत्ता लाना

आर्थिक वृद्धि सामाजिक प्रगति एवं सांस्कृतिक विकास करना सामूहिक आत्मनिर्भरता को बढ़ाना

अन्य देशों के साथ पारस्परिक संबंध आर्थिक सामाजिक संस्कृतिक तकनीकी और वैज्ञानिक क्षेत्र में सहयोग को बढ़ावा देना

अन्य क्षेत्रीय संगठन के साथ सहयोग करना अंतर्राष्ट्रीय सहयोग में मजबूती प्रदान करना एक दूसरे की समस्याओं के लिए आपसी विश्वास तथा समझ बूझ द्वारा सहायता प्रदान करना

सार्क द्वारा आर्थिक क्षेत्र में सहयोग का महत्व

saarc kya hai

saarc kya hai aur iske sammelan

Saarc संगठन में सम्मिलित देशों द्वारा किए गए सम्मेलन

प्रथम शिखर सम्मेलन

दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संघ का प्रथम शिखर सम्मेलन 1985 में ढाका में हुआ था इस सम्मेलन में सभी सदस्यों ने पारस्परिक सहयोग के लिए अपनी वचनबद्धता पर सहमति प्रकट की

saarc का द्वितीय शिखर सम्मेलन

द्वितीय शिखर सम्मेलन नवंबर 1986 में भारत के में बेंगलुरु में हुआ इन देशों ने 1990 तक सार्वभौमिकता प्राथमिक शिक्षा मातृ शिशु को सुरक्षित पेयजल की व्यवस्था एवं उचित आवास के लक्ष्य निर्धारित किए

saarc का तृतीय शिखर सम्मेलन

शहर का तीसरा शिखर सम्मेलन नवंबर 1987 में काठमांडू में हुआ इस सम्मेलन में 3 ऐतिहासिक निर्णय लिए गए आतंकवाद को समाप्त करने का समझौता हुआ दक्षिण एशियाई खाद्य सुरक्षा बंडा की स्थापना का निर्णय हुआ तीसरा महत्वपूर्ण निर्णय क्षेत्र के पर्यावरण की रक्षा के उपाय के लिए पर्यावरण संबंधी अध्ययन करना है

saarc का चौथा शिखर सम्मेलन

सार्क का चौथा शिखर सम्मेलन श्री लंका की अशांत स्थिति के कारण वहां न होकर 29 सितंबर 1988 को पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में हुआ इस सम्मेलन का विशेष महत्व है क्योंकि यह सम्मेलन पाकिस्तान में लोकतंत्र की बहाली के बाद हुआ इस सम्मेलन में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए

सर्वोच्च न्यायालय के जज ,संसद के सदस्य एक विशेष saarc पत्र या दस्तावेज़ पर सार्क देशो की यात्रा कर किसी भी प्रकार के वीजा की आवस्यकता नहीं होगी।

नशीले पदार्थों का गलत प्रयोग को रोकने हेतु अभियान जारी करने का संकल्प

इस सम्मेलन की एक महत्वपूर्ण उपलब्धि साथ 2000 का निर्माण है है सार्क 2000 एक क्षेत्रीय योजना की अवधारणा है इस योजना द्वारा शताब्दी के अंत तक इस क्षेत्र के एक अरब से ज्यादा लोगों को आवाज शिक्षा साक्षरता की आवश्यकता को पूरा कर सके

संयुक्त राष्ट्र की घोषणा के अनुसार वर्ष 1989 को बालिका वर्ष के रूप में मनाने का आह्वान किया गया

परमाणु निशस्त्रीकरण का भी निर्णय हुआ शिखर सम्मेलन के निर्णय के अनुसार क्षेत्र का कोई भी देश सार्क का सदस्य बन सकता है यदि इसके घोषणापत्र के सिद्धांतों एवं उद्देश्यों पर विश्वास रखता है

saarc का  पांचवां शिखर सम्मेलन

21-23 नवंबर (1990 में) मालदीव की राजधानी माले में संम्पन्न हुआ

saarc छठा सम्मलेन (कोलंबो सम्मेलन )

21 दिसंबर 1991 को शहर का सम्मेलन कोलंबो में हुआ सार्क के सातों देश क्षेत्र में व्यापार को उदार बनाने पर सहमत हुए सातों सदस्य देशों ने निशस्त्रीकरण की सामान्य प्रतियों का स्वागत किया। घोषणापत्र में मानव अधिकारों की रक्षा की बात हुई

saarc सातवा सम्मलेन (ढाका शिखर सम्मेलन )

12 दिसंबर 1992 को saarc का शिखर सम्मेलन बांग्लादेश में होना था परन्तु भारत के आग्रह पर यह स्थगित कर दिया गया 13 जनवरी 1993 को शिखर सम्मलेन होना निश्चित हुआ होना 10 और 11 अप्रैल के बीच यह ढाका में हुआ इसमें saarc राष्ट्र के नेताओ ने सातो राष्ट्रों के बीच एक महाबाज़ार का निर्माण करने तथा विशेष बल दिया गया

saarcआठवां शिखर सम्मलेन ( नई दिल्ली सम्मेलन)

2 मई 1995 को saarc का आठवां शिखर सम्मेलन भारत की राजधानी नई दिल्ली में आरंभ हुआ इस सम्मेलन की मुख्य उपलब्धि आपसी सहयोग के क्षेत्र में दक्षिण एशियाई वरीयता व्यापार व्यवस्था सदस्य देशों की सहमति बनी सभी सदस्य राज्यों ने वर्ष 1995 को गरीबी उन्मूलन वर्ष मनाने का फैसला किया

saarcका नौवां शिखर सम्मेलन

मई 1997 में राजधानी माले में सम्मेलन आयोजित हुआ एक तक मुक्त व्यापार क्षेत्र (safta ) लागू करने का निर्णय लिया गया माले शिखर सम्मेलन में सन 2001 तक दक्षेस में मुक्त व्यापार क्षेत्र सप्ताह स्थापित करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया

saarc का दसवां 10 शिखर सम्मेलन

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन का दसवां शिखर सम्मेलन 3 दिन के लिए कोलंबो में 28 जुलाई 1998 को प्रारंभ हुआ 31 जुलाई को समाप्त हुए सदस्य राशि के सभी क्षेत्रों में समृद्धि के लिए व्यापक आर्थिक और सामाजिक कार्य सूची में घोषणा की सदस्य देशों ने परमाणु हथियारों को पूरी तरह से नष्ट करने और प्रभावशाली अंतरराष्ट्रीय नियंत्रण के तहत को बढ़ावा देने की आवश्यकता पर बल दिया गया

saarc का 11वा सम्मेलन

दक्षेस का 11 सम्मेलन नेपाल की राजधानी काठमांडू में भारत और पाकिस्तान के तनाव के बीच 5 और 6 फ़रवरी 2002 को हुआ इस सम्मेलन में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए आतंकवाद को समाप्त करने एवं दक्षिण ऐशिआ मुक्त व्यापार क्षेत्र(safta ) को लागू करने के फैसले लिए गए . और महिलाओं को खरीद-फरोख्त के लिए सामूहिक पहल की गई ads एड्स के मुकाबले के लिए सामूहिक पहल की बात भी दक्षेस saarc घोषणा में कही गई

सार्क का 12 वां शिखर सम्मेलन

जनवरी 2004 दक्षेस देशों का 12 वां शिखर सम्मेलन 4 जनवरी 2004 को इस्लामाबाद पाकिस्तान में हुआ इस सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व श्री प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई ने किया सम्मेलन के अंत में 11 पृष्ठों का एक साझा घोषणापत्र (इस्लामाबाद घोषणा पत्र) कहा जाता है जारी किया गया

इस सम्मेलन की प्रमुख बातें निम्नलिखित है

दक्षिण एशियाई मुक्त व्यापार व्यवस्था को मंजूरी दी गई यह समझौता 1 जनवरी 2006 से लागू होगा

एशिया से गरीबी और पिछड़ापन दूर करने के लिए सामाजिक घोषणा पत्र जारी किया गया

1987 में आतंकवाद निरोधक समझौते की समीक्षा की गई तथा आतंकवाद पर रोकथाम लगाने का निर्णय लिया गया सम्मेलन

दछेस पुरुस्कार का शुभारभ हुआ

saarc का तेरहवाँ शिखर सम्मेलन

saarc का 13 वां शिखर सम्मेलन नवंबर 2005 में ढाका में हुआ इस सम्मेलन में एकजुट होकर आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष के लिए घोषणा पत्र जारी हुआ

saarc का 14वां शिखर सम्मेलन

का 14 वां शिखर सम्मेलन अप्रैल 2007 में भारत में हुआ इस सम्मेलन में अफगानिस्तान को सदस्य बनाया गया

saarc का 15वा सम्मेलन

सम्मेलन अगस्त 2008 में श्रीलंका में हुआ सम्मेलन में क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाने एवं आतंकवाद के विरुद्ध सघर्ष की घोषणा

saarc का 16वां शिखर सम्मलेन

16 वां सम्मेलन 28 29 अप्रैल 2010 को भूटान की राजधानी थिंपू में हुआ सम्मेलन के दौरान 2011 से 20 20 के दशक के दशक को डिकेड ऑफ इंट्रा रीजनल कनेक्टिविटी इन सार्क( decade of intraregional connectivity ) के रूप में मनाए जाने का निर्णय लिया गया सम्मेलन में आतंकवाद की आलोचना करते हुए इसे समाप्त करने के लिए पारस्परिक सहयोग की मांग हुई

saarc का 17 वां शिखर सम्मेलन

saarc का 17 वां शिखर सम्मेलन 10 -11 नवंबर 11 को मालदीव में हुआ सम्मेलन में राष्ट्रों के बीच अपनी व्यापार आपदा प्रबंधन समुद्री दस्यु(आपदा) से निपटने की समस्या एवं वैश्विक आर्थिक संकट के मुद्दों पर चर्चा हुई

saarc का 18 वां शिखर सम्मेलन

शहर का 18वां शिखर सम्मेलन 26 27 नवंबर 2014 को नेपाल में हुआ शिखर सम्मेलन के घोषणा पत्र में 36 बिंदुओं पर 15 साल के भीतर सहमति बनाते हुए आगे बढ़ाने पर जोर दिया गया इसमें 7 देशों में आतंकवाद उग्रवाद और धार्मिक अतिवाद नियंत्रण के लिए तंत्र विकसित करने का उल्लेख किया गया साथ ही वीजा सरलीकरण एवं जन संपर्क बढ़ाने पर जोर दिया गया है

saarc का 19वें शिखर सम्मेलन

19वें सार्क शिखर सम्मेलन का आयोजन साल 2016 में पाकिस्तान में किया जाना था, लेकिन भारत समेत बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान ने इस समिट में हिस्सा नहीं लिया था. बांग्लादेश घरेलू परिस्थितियों का हवाला देते हुए इस सम्मेलन में शामिल नहीं हुआ था, जिसके बाद ये सम्मेलन रद्द करना पड़ा था

Yaha tak jana ki saarc kya hai aur iske kitne sammelan huye

Saarc desho ke Mahasachivo ki suchi .. सार्क के अब तक महासचिव की की सूची

नामकार्यकाल
देश
अबुल अहसान16 जनवरी 1985 से 15 अक्टूबर 1989 तक
बांग्लादेश
किशोर कांत भार्गव17 अक्टूबर 1989 से 31 दिसम्बर 1991 तकभारत
इब्राहिम हुसैन जाकी1 जनवरी 1992 से 31 दिसम्बर 1993 तकमालदीव
सिलवाल कांत यादव1 जनवरी 1994 से 31 दिसम्बर 1995 तकनेपाल
नईम यू. हुसैन1 जनवरी 1996 से 31 दिसम्बर 1998 तकपाकिस्तान
निहाल रोड्रिगो1 जनवरी 1999 से 10 जनवरी 2002 तकश्रीलंका
क्यू.ए. रहीम11 जनवरी 2002 से 28 फरवरी 2005 तकबांग्लादेश
चेन्याब चेंकयाब दोरजी1 मार्च 2005 से 29 फरवरी 2008 तकभूटान
शील कांत शर्मा1 मार्च 2008 से 28 फरवरी 2011 तकभारत
फातिमा धियाना सईद1 मार्च 2011 से 11 मार्च 2012 तकमालदीव
अहमद सलीम12 मार्च 2012 से 28 फरवरी 2014 तकमालदीव
अर्जुन बहादुर थापा1 मार्च 2014 से 28 फरवरी 2017 तकनेपाल
अमजद हुसैन बी. सियाल1 मार्च 2017 से 1 मार्च 2020पाकिस्तान
इसाला वीराकून 1 मार्च 2020 से अभी तक श्री लंका

आशा करता हूँ। कि saarc kya hai के बारे यह जानकारी उपयोगी साबित होगी। ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए thehulchal के साथ फेसबुक के माध्यम से जुड़े। click here to join- facebook.com/thehulchal

दोस्तों के साथ भी शेयर करे (क्योंकि ज्ञान को जितना प्रसारित करे उतना ही बढ़ता है )

धन्यवाद 🙂

इसे भी पढ़े

Aashiyan kya hai। इसके प्रमुख उद्देश्य,आर्थिक गतिविधि एवं संस्थापक देश कौन से है

ऑपरेशन इनफाइनाइट रीच क्या है। अमेरिका का अलकायदा पर हमला

प्रथम खाड़ी युद्ध (ऑपरेशन डेज़र्ट स्टॉर्म ) कब और क्यों हुआ (first gulf war )-इराक़ी वॉर

शीत युद्ध का दौर एवं उसके द्वारा पड़ने वाले प्रभाव की व्याख्या ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *